31+ Weird On Page SEO Actionable Tips in Hindi.

On Page SEO करके अगर आपको कोई ये बोलता है कि आपके Articles Within days या Within weeks Google की Number 1 Position पर Rank कर जाएंगे तो उससे गलत कोई हो नहीं सकता और ये मैं आपको अपने Experience के base पे ही बोल रहा हूँ।

आपने देखा होगा कि बेतरीन Blog Site ShoutmeLoud के बहुत सारे Articles Google की Number 1 Position पर rank करते है।

जिसका सबसे बड़ा कारण (SEO) Search Engine Optimization है…ऐसा नहीं है कि इस Site के Articles एकदम से Rank कर गए…इसके पीछे भी काफी सालों का Struggle है।

#So Blogger Warriors…

अगर आप अपनी Blog Post’s और Pages को Search visibity में लाना चाहते है तो आपको On Page SEO का Use करना पड़ेगा ताकि Search Engines आपके Content को समझ पाएं और उसे Rank कर पाएं।

बस…

इसी में आपकी सहायता करने के लिए मैंने On Page SEO की Checklist तैयार की है ताकि आप अपने किसी भी Blog Page को Optimize करना बिलकुल न भूलें।

आपको शायद पता हो…अगर आप पहले इस Article पर Visit कर चुके है तो इसमें पहले कुछ ऐसी techniques और Tips थे जो थोड़े old हो चुके थे।

लेकिन फिर मैंने सोचा क्यों न इस Post को update किया जाए और कुछ और बेहतरीन Tips आपके साथ Share की जाए।

So…इसी लिए मैंने इस Post को दोबारा से Update किया और आपके लिए लेकर आया हूँ 31+ On Page SEO Steps जिन्हें आप चाह कर भी Avoid नहीं कर सकते।

तो चलिए बिना किसी देरी के जान लेते है 31+ On Page SEO Points की Checlist:-

On Page SEO kya hai – What is On Page SEO in hindi.

on page seo kya hai

On Page SEO एक ऐसी Process है जिसके अंदर हम किसी individual Web Page को Optimize करते है ताकि वह Particular Post or Page Google में Better Ranking हासिल करके ज्यादा से ज्यादा Relevant Traffic Gain कर सके।

On Page SEO में हम किसी एक Webpage के लिए एक Primary Keyword को Target करते है ताकि हम Search engines में Better Ranking Gain कर पाएं।

for exp:-

मान लीजिए इस Post का Primary Keyword On Page SEO है तो मैं ज्यादा से ज्यादा कोशिश करूँगा कि मैं इस Post को इसी Keyword पर Top 10 Positions में Rank करा सकूं।

जहाँ हम On Page SEO में किसी एक individual web page को optimize करते है वहीँ इसमें बाकी Type के SEO Tactics भी सम्मिलित है।

क्योंकि On Page SEO अकेला काफी नहीं है किसी भी Post और Page को Search Engines में higher rank करने के लिए।

आपको अपनी Overall Site को Search Engins के लिए more attractive बनाने के लिए On Page SEO के साथ-साथ Off Page SEO और Technical SEO की जरूरत भी पड़ने वाली है ताकि आपका Content higher ranking हासिल कर सके।

So Friends…इसी लिए मैं आपके साथ इस Post में 31+ On Page SEO Checklist Points Share करने जा रहा हूँ।

और साथ ही साथ बहुत ही important off Page SEO और Technical SEO tactics share करने जा रहा हूँ जो आपके On Page SEO efforts को double power देने वाला है।

31+ Points On Page SEO Checklist

किसी भी Blog Post और Page को अपनी site पर Publish करने से पहले इस Checklist का use जरूर करें।

इसी के साथ-साथ आप इस On Page SEO Checklist का Use अपने Previous Published  Post और Pages में भी use कर सकते है। 

1. Best Keywords finds karein.

On Page SEO की शुरुआत किसी भी Page और Post के Content के लिए Best Keywords find करने से होती है।

अभी आपके Mind में एक Question आएगा की Best Keywords क्या है?

तो चलिए मैं आपका ये Doubt Clear कर देता हूँ:-

1. Keyword Content के Topic से मिलता जुलता हो:- मान लो आप SEO पर कोई Article लिख रहे है तो आप Backlink या Link Building जैसे Keywords को तो Primary नहीं रख सकते न।

Clear सी बात है कि आपको On Page SEO या On Page SEO Techniques जैसा ही कोई Primary keyword choose करना होगा।

अगर आप Main Content के जैसा ही Primary Keyword रखते है तो Content और Keyword में Relevancy Create होगी और परिणामस्वरूप आपका Content Better Optimize होगा। इसलिए Content से Relevant ही Primary Keyword choose करें।

2. Targeted Audience द्वारा Search किया जाता हो:- आपको हमेशा ऐसे Keywords को Target करना चाहिए जो High Search Volume के हों।

अब आप में से बहुत से friends ऐसा कहेंगें कि भाई आप YouTube Video में तो कम Search volume वाले Keywords पर भी काम करने के लिए कहते है।

आपकी बात बिलकुल सही है।

मैं कहता हूँ।

लेकिन वो तब…जब आपकी Website शुरुआती लेवल पर हो उस Time आप Low Search Volume+Long tail keywords पर काम कर सकते है।

उसके बाद जब आपकी Website की authority build हो जाए तो आप High Search Volume keywords को भी Target कर सकते है।

So at the end…

मेरा कहने का मतलब है कि ऐसे Keywords को Target करें जो आपकी Targeted Audience Search कर रही हो ताकि आपको एक अच्छा-खासा Traffic अपनी Post’s और Pages पर मिल सके।

3. Site की Authority:- जिस Keyword को आपने Choose किया है…क्या आपकी Website उस Keyword पर Already Ranked site को टक्कर दे सकती है?

for exp:

मान लो आप किसी ऐसे Keyword को Target कर रहे हो जिस पर Top 10 में Rank करने वाली Websites की DA/PA 20+ है और आपकी DA/PA 5+ है तो बहुत कम Chances है कि आप इन 20+ DA/PA वाली Websites को beat कर पाएंगे।

तो ऐसे में आपको क्या करना चाहिए?

ऐसे में आपको सिर्फ उन्हीं Keywords को Target करना चाहिए जिस पर Top 10 में Rank कर रही Websites की DA/PA 5+ हो न कि 20+ DA/PA हो।

I Hope…अब आप समझ गए होंगें कि कैसे Keywords को target करना है यानि कि ऐसे ही Keywords को Target करें जिन पर Rank कर रही Other Websites आपकी टक्कर की हों।

Summarize:

  1. Content से मिलता जुलता ही Primary Keyword Choose करें।
  2. आपकी Targeted Audience द्वारा Keywords को Search किया जाता हो।
  3. Keyword को target करने से पहले अपनी और उस keyword पर Rank कर रही Websites की Authority Check करें।

2. Atleast 1 Primary Keywords ko Choose karein.

जब एक बार आप अपने Content के लिए Keyword Choose कर लें तो उसे अपनी Site की उसी Post के लिए Asign करें।

इसी तरह से हर नई Post के लिए एक separate keyword को choose करें ताकि बाद में आपके Keywords को ranking में Problem न आए।

3. Primary Keyword repeat naa karein.

अगर आपने किसी Keyword को Primary Keyword के रूप में Asign कर लिया है तो याद रखें कि वह दोबारा Primary Keyword के रूप में नहीं आना चाहिए।

अगर आप एक से अधिक Pages [post’s] में Primary Keywords use करते है तो यह Keyword Cannibalization issue कहलाएगा।

So…Search Engines समझ नहीं पाएंगे कि कौनसा Page ज्यादा Important है परिणामस्वरूप दोनों ही pages Rank नहीं होंगें।

इसलिए इस तरह के Issues को find करने के लिए आप Duplicate Content Checker Tool का use कर सकते है।

4. Choose Three to Five Related Keywords.

Related keywords ऐसे terms and phrases हैं जो Primary Keyword के synonyms or semantically keywords है।

इन्हें कभी-कभी LSI और Latent Indexing Semantic Keywords भी कहा जाता है। इसलिए ऐसे 4 से 5 Keywords को जरूर ढूंढें जो आपके Primary Keyword से मिलते जुलते हों।

5. Apne Keyword ke Liye Content Plan karen.

एक बार जब आपके पास Primary Keyword आ जाए तो use करने के लिए Content Plan कीजिए।

तय करें कि keyword Timley blog post, evergreen content या landing page के लिए सही रहेगा।

इसके साथ-साथ यह भी तय करें कि कितने Words का आपका Content होना चाहिए ताकि आप अपने Primary Keyword को आसानी से use कर पाएं।

चलिए मैं आपको Content create करते वक़्त कुछ points को याद रखने के बारे में बताता हूँ:-

1. Keyword Content से match हो – ऐसा Content Create कीजिए जो users को सच में value provide करें और जो information users सच में find कर रहा है वह आपके Content में provide की गई हो।

2. आपका Content Sales funnel में कहाँ fit बैठता है – Customer journey Mapping Template का use करें और ऐसा content create करें जो कि आपके किसी specific purchase funnel में fit बैठता हो।

3. Create Better Content – आप सबसे पहले अपने Primary keyword को Google में Search करें और check करें कि Top 10 में जो भी Websites Rank कर रही है उनका Content, Words limit और लिखने का सलीका क्या है।

इसी के साथ-साथ Top 10 में जो भी Websites Rank कर रही है उनके मुकाबले कोशिश करें कि आपका Content ज्यादा valuable, informative, better organized और Unique होना चहिए।

6. Title mein Primary Keyword use kare.

अगर आप CTR (Click through-rate ) increase करना चाहते है तो आपको Post के Title पर खास ध्यान देना होगा।

जी हाँ सही सुना आपने।।

अगर आप एक अच्छा Title create करते है तो वह Search Engine के साथ-साथ Users के लिए भी बहुत helpful होगा।

for exp:

मान लो हमने 2 अलग-अलग Titles create किए:-

  1. On Page SEO Techniques in Hindi
  2. 25+ On Page SEO Techniques in Hindi.

अब आप कौनसे Title पे Click करेंगे ये मुझे आपको बताने की जरूरत नहीं है।

Obiviously Mostly users 25+ On Page SEO Techniques in Hindi वाले Title पर ही Click करने वाले है।

इसलिए ऐसा title create करें जो कि search engines के साथ-साथ Users के लिए भी apealing हो।

एक बात और ध्यान में रखें कि Content के Primary Keyword को Beginning में ही रखने की कोशिश करें और एक बढ़िया सा clickable title create करें ताकि आपका Title users को बताए कि क्यों उन्हें आपका Content Read करना चाहिए।

7. Title in H1 Tag

अपने Content के Title को H1 में रखें। H1 Basically HTML का एक छोटा सा Code होता है जो किसी भी Content के बारे में हमें और Search Engines को बताता है कि यह Content किस Topic पर आधारित है।

8. Create Original Content.

Original Content और Duplicate या Copy किए हुए Content में जमीन आसमान का फर्क होता है।

अगर आप On Page SEO को ध्यान में रखकर सच में अपनी Post को rank करना चाहते है तो अपना Original Content Create कीजिए।

अपनी Website पर Publish हो चुके Content को कभी भी Copy न करें और न ही किसी दूसरी website का Content copy करें।

इससे आपके Blog की rankng तो improve नहीं होगी लेकिन बाकी pages और posts पर भी इससे bad effect पड़ेगा।

कुछ मामलों में तो कई Websites को Search Engines द्वारा Penalize कर दिया जाता है फिर उस Penality से उभरना एक non techy blogger के लिए बहुत मुश्किल हो जाता है।

इसलिए इस बात का खास ख्याल रखें कि Copied Content कभी use नहीं करना है।

9. Long Post’s (1500+ Words if Pssible)

अगर आप other Bloggers से पूछेंगें कि Post की Minimum Length क्या होनी चाहिए?

तो आपको हर कोई अपने Point of view से बताएगा।

कोई कहेगा Minimum length 600 words होनी चाहिए तो कोई 1000, 2000 या बहुत कुछ।

लेकिन मैं आपको Minimum Length 1500 Words रखने को कहूंगा क्योंकि इससे आपकी Post को कुछ हद तक Google में Rank करने के लिए आसानी हो जाएगी।

फिर आप Time to time उस Post को Update करते रहें।

परिणामस्वरूप आपकी Post-Top results में show करने लग जाएगी।

10. Write High Quality Content.

Even जब भी आप Content ranking के Purpose से create करें तो आपको इस बात को भी ध्यान रखना चाहिए कि आप Search Engines के साथ Readers के लिए भी Content create कर रहे है।

अगर आप ऐसी मनोदशा लेकर Content Create करेंगें तो आपके Content में Quality आएगी परिणामस्वरूप आपका Content Valuable, Useful और User की life में value adition करेगा।

11. Focus on eighth-grade reading level

High Quality Content Create करें…यह मतलब नहीं है कि Professor या College Level के Paper की तरह आप काम करें।

बल्कि इसका मतलब बिलकुल Opposite है।

अपने Content को Eighth-grade reading level की तरह flesch scale में create करें।

इसका सीधा सा मतलब है कि आपको अपने Content में Common (साधारण) शब्दों का ही प्रयोग करना है बात को ज्यादा Complex बनाने की कोशिश बिलकुल न करें।

इसी के साथ-साथ Engagement बनाने के लिए छोटे-छोटे Sentences और Paragraphs का use करें।

12. Use 2-3% Keyword Density.

अपने Content को Rank कराने के लिए Search Engines की help करें।

और ये आप कैसे करेंगे ?

चलिए मैं बताता हूँ।

आपको Primary keyword को Natural way में repeat करना है ताकि search engines आपके content की main theme [topic] के बारे में समझकर उसे सही Ranking provide कर सकें।

अगर आपको Best Practice के लहजे से कहूँ तो आपको हर 500 शब्दों के अंदर 2 से 3 बार अपने primary keyword या उससे Relevant keywords को add करना है ताकि 2-3% keyword density बरक़रार रह सके।

इससे ज्यादा use करने की कोशिश बिलकुल न करें वरना आपको keyword stuffing issue से गुजरना पड़ सकता है।

13. Use Related or LSI Keywords.

जब आप Keywords Research करें तो आपको हर Primary keyword से संबंधित कुछ Related Keywords मिलते है।

अपने Content को Search Engines और users के लिए findable बनांने के लिए 3 से 4 Related Keywords का Use जरूर करें।

इन Keywords को आपको Naturally अपने Content में use करना है जबरदस्ती घुसेड़ने की कोशिश बिलकुल न करें।

14. Scannable Content Create kare.

Content में Search engines और users दोनों ऐसा content पसंद करते है जो Scan करने और समझने में आसान हो।

इसलिए अपने Content की formatting ऐसी करें जो Quickly scan और review की जा सके।

इसके लिए आप आगे दिए गए Points को follow कर सकते है:-

  1. Descriptive Subheadings के साथ Content को अलग-अलग बाँट दें।
  2. List जैसी Information के लिए Bullet points का use करें।
  3. Important Points को Highlight और Bold करें।

अगर आप Easy to read और Scannable Content Create करेंगे तो इससे आपकी Website की Ranking भी Improve होगी।

15. Subheadings Ko H2 Tag Mein Rakhe.

Subheadings का use करके Search Engine की मदद करे ताकि Search Engines आपके Content के main theme or topic को समझ सकें।

Subheading Basically H2 होता है जैसे कि हमारी Post का Title H1…HTML Code में होता है।

Subheading यानि कि H2 का यह HTML Code Search engines को बताता है कि यह इस Page or post के काफी important Points में से एक है।

16. Primary Keyword ko Subheadings mein use kare.

ये काफी important point है आप भले ही Content 500 शब्दों या 5000 शब्दों का लिखें।

आपको अपने Content की Subheadings में एक बार तो अपने Primary Keyword को जरूर use करना चाहिए।

for exp:

आप इसी post को देख लीजिए।

इसका Primary keyword on page SEO है जिसे Title में तो use किया ही गया है साथ ही साथ Subheading में भी use किया गया है।

इससे Search engines को एक indicate जाता है कि headline यानि कि title और content में relevancy है जिससे engines आपके content को rank करने में आपकी सहायता करते है।

आप Subheading में Primary keyword को एक से ज्यादा बार भी use कर सकते है लेकिन Naturally और सही ढंग से करें।

17. Primary Keyword ko First aur Last Paragraph mein use kare.

अपने पहले Paragraph के अंदर और Last paragraph में Primary Keyword का Use करें ताकि Relevancy create हो।

यह Search engines को स्पष्ट करने में मदद करेगा कि आपका Content relevant क्यों है।

18. Add Relevant Internal Links.

Links Search engines के साथ-साथ Users को भी online Content के साथ Connect करके रखते हैं।

इसलिए जब भी post लिखें तो relevant internal linking जरूर करें और जितना सम्भव हो Link करते समय Targeted keywords को Anchor Text में use करें।

इससे Website पर Users ज्यादा देर तक time spend करते है और search engines के लिए crawling आसान हो जाती है।

ज्यादा जानकारी के लिए Internal Linking की इस Post को पढ़ सकते है।

19. Add Relevant External Links.

Crawlers को अपने Content के topic के बारे में समझाने के लिए external links भी add करें।

अब आपके दिमाग में आएगा कि समझाने के लिए External Links ही क्यों ?

Look, friends…

जब आप External Links Add करेंगे तो कुछ तो उस Content में आपकी Post से संबंधित होगा।

आप ये तो बिलकुल नहीं करेंगे कि article आप On Page SEO in Hindi लिख रहे हों और External Link आप Top 5 Places in dubai का जोड़ दें।

ऐसे में तो Content बिलकुल ही irrelevant हो जाएगा फिर उस website का user आपकी Website पर आएगा तो bounce back करेगा और आपका “On Page SEO in Hindi” वाला भी Bounce Back करेगा।

कारण क्या है?

कारण बस एक ही है दोनों articles के बीच Relevancy नहीं होगी जिसका खामियाज़ा आपको Ranking और Traffic के द्वारा भुगतना पड़ सकता है।

इसलिए Relevant, Valubale और high quality sites को ही Add कीजिए। इससे आपकी Ranking, Relevancy और User Base हमेशा increase होता रहेगा।

20. External Links ko New Tab ke liye Set kare.

जब एक बार User आपकी Post के किसी Link पर Click करे तो आपकी हमेशा यही कोशिश होनी चाहिए कि User पूरी तरह से आपकी Site को न छोड़े।

इसलिए जब भी External Website का Link Add करें तो New Tab or New Window के लिए ही Set करें।

ताकि अगर User Temprory base पर किसी अलग website पर चला भी जाए तो आपकी Website उसके Browser की एक Tab में Open रह सके।

21. Add at Least 1 Relevant image.

अपनी Post को ज्यादा interesting और valuable बनाने के लिए आप उसमें कम से कम एक फोटो add जरूर करें।

ताकि Users Engage रहे और आप search engines को भी दिखा पाएं कि आपका Content सच में valuable है।

images के साथ-साथ आप अपनी Post में infographics भी add कर सकते है ताकि users ज्यादा time आपकी site पर spend करें।

मज़्ज़ेदार बात कहूँ तो आप भी infographics create करना शुरू कर दीजिए क्योंकि जहाँ infographic से content ज्यादा understanding लगता है वही infographic आपकी backlink लेने में भी मदद कर सकता है।

इससे आप multiple bloggers से बात कर सकते है, उन्हें mail कर सकते है और उन्हें आपके infographic के बदले backlink के लिए मना सकते है।

अगर आपका infographic interesting और informative हुआ तो आपको Backlink से कोई ना नहीं कहने वाला।

22. Image File Name “Primary Keyword” Rakhe.

जब आप Post की किसी भी image को media library में upload करें तो upload करने से पहले image के file name को change करके उसमें अपनी post के primary keyword को जोड़ दें।

ताकि आप Search Engines को  बता सकें कि image किस topic के बारे में है।

इसके साथ-साथ अपनी Image को Upload करते समय Alt text का भी use करें इससे भी search engines को आपके content के बारे में समझने में आसानी होती है।

23. Properly sized image use kare.

Image Create करने या Upload करने से पहले उसका size जरूर check कर लें क्योंकि ज्यादा बड़ी Size की images website की speed पर bad effect डालती है।

इसलिए अपनी Website पर images upload करने से पहले उन्हें properly resize करें और  उसके बाद Compress करें ताकि image का size KB में कम हो जाए।

Images को Compress or Resize करने के लिए आप आगे दी गई 2 बेहतरीन websites का use कर सकते है:-

  1. Compressnow.com
  2. reduceimages.com

मुझे आशा है कि ये 2 Websites आपके इरादों पर खरा उतरेंगी।

24. SEO Friendly URL With Primary Keyword.

जब भी आप कोई Post लिखें तो उसका Permalink [URL] Default में बहुत ही irritating होता है जैसे कि:-

on page seo kya hai

लेकिन हमें ऐसा Permalink use नहीं करना चाहिए बल्कि इसे Modify करके search engines के समझने योग्य बनाना चाहिए जैसे कि:- 

on page seo kya hai

इस तरह से आप अपनी Post का Permalink Modify करें ताकि Title, Content और Permalink में Relevancy Create हो सके। इसके साथ साथ Permalink में आप Stop words, special characters और गैर जरूरी words का use न ही करें।  

25. Relevant Category or Tags Choose kare.

Post की Categories और tags site के content को organize करने में मदद करते है और साथ ही साथ Search engines को भी Topic समझने में सहायता करते है।

अगर आप Blog Post Publish करते वक़्त सही categories और tags को choose नहीं करते है तो सावधान हो जाइए क्योंकि इससे आपकी Website की ranking पर भी effect पड़ सकता है।

26. Optimized Meta Title ka Use kare.

Meta title Code की एक ऐसी line है जो search engines को बताती है कि यह Page or post का title है।

यह वह भी title होता है जो (SERPs) Search Engines Results Pages के दौरान हमें नजर आता है।

for exp:

(IMAGE ADD)

इस Images में आप देख पा रहे है कि SERPs के Title कैसे नजर आते है।

Title के बारे में आपको एक बात और ध्यान में रखनी है कि इसे 60 Characters से कम ही रखना है अगर ज्यादा करेंगें तो वह SERPs में नजर नहीं आएगा और जो चीज नजर नहीं आती उसे लिखकर भी क्या फायदा।

60 Characters के साथ-साथ अपने Primary Keyword को Title की शुरुआत में Add करने की कोशिश करें।

सबसे जरूरी बात मैं आपको बता दूँ कि Meta Title आपको Yoast SEO, All in One SEO Pack और Rank Math जैसे Plugins को Use करते वक़्त Post के bottom [निचे] में जो Meta title or Meta description section आता है वहां use करना है।

(IMAGE ADD)

आप इस image में देख सकते है कि meta title किसे कहते है और इसे SERPs में Clickable Headline रखने के लिए किस प्रकार का बनाना चाहिए।

27. Optimized Meta Description ka Use kare.

On Page SEO में जितना Role Meta title का होता है उतना ही अहम Role meta Description का भी होता है।

यह Title को सहारा देता है और अपने साथ Content के बारे में भरपूर जनकारी इक्क्ठी करके रखता है।

Meta description search engines के साथ-साथ user को भी Content के बारे में एक छोटा सा overview देता है जिससे users और search engines को Content के Topic के बारे में समझने में आसानी होती है।

अपनी Post के लिए एक ऐसा Meta Description Add करें जो Optimized होने के साथ-साथ 135 से 160 Characters के बीच हो।

ज्यादा आसानी से समझने के लिए आगे दी गई Image को देख सकते है:-

(IMAGE ADD)

इसके साथ आप अपने Meta Description में Primary Keyword को front में Use करें और soft और encouraging call to action भी add करें ताकि users उसपर ज्यादा से ज्यादा click करें।

28. Optimized Meta Description ka Use kare.

On Page SEO में Content तब ज्यादा interesting लगने लगता है जब Search engines और Social media दोनों के लिए Optimized किया गया हो।

इसलिए Content के साथ-साथ Social Sharing Button और Click to tweet का option भी add करें।

इससे आपके blog पर Social media से traffic आने के Chances बढ़ जाते है।

Read more: 17+ Website ki Traffic Badhane ki Powerful Tips for 2021

29. Content Proofread kare.

Post or Page को Publish करने से पहले उसे Proofread करें और check करें कि आपके content में कहीं कोई Spelling mistake या Grammatical errors तो नहीं है।

आपको शायद पता न हो लेकिन यह Writing का सबसे महत्वपूर्ण part है।

इसलिए Make sure कि Content को Publish करने से पहले एक बार पढ़ जरूर लें।

अगर आप ऐसा करते है तो आपका Content सिर्फ Spelling mistake या Grammatical errors free ही नहीं बल्कि High Quality, authoritative और Trust Worthy भी बन जाएगा जो कि Top Results में show होने के काबिल हो जाएगा।

#BONUS TIPS

30. Website Speed for On Page SEO

अगर On Page SEO को Strong रखना है तो High-Quality Content के साथ-साथ अपनी Site की Speed को भी Optimize करना न भूलें।

क्योंकि यदि आपकी Site के Web page Optimize नहीं है और Pages Open होने में काफी समय लेते है तो आपको Speed से Related Queries को fix करना होगा।

अगर आप उन Queries को fix नहीं करते है तो आपकी Site का Bounce Rate Automatic Increase हो जाएगा।

चूँकि आपकी Site Speed Optimize ना होने की वजह से आपका Web-page जल्दी Open नहीं होगा।

जिसकी वजह से Users ज्यादा समय तक आपकी Site पर नहीं ठहरेंगे।

So जनाब, आपको On Page SEO को अगर Fully Strong बनाना हैं तो Site की Speed पर विशेष ध्यान देना होगा।

ताकि Users को Complaint का कोई मौका ना मिले।

क्योंकि Google भी उन Websites की Posts को Top Results में show करता है।

जिनकी Site के Web pages 0-3 Second में Open हो जाते है।

Site Speed से Related Problems को fix करने के लिए आप इन Tools की help ले सकते है।

31. User Friendly Content Likhen.

Users को Priority दीजिए। ऐसा मैं, इसलिए बोल रहा हूँ क्योंकि Google अपने Users को बेहतरीन Content Provide कराना चाहता है।

ऐसे में अगर आप Users को ध्यान में रखकर Post नहीं लिंखेंगे तो आपका Content User-Friendly नहीं होगा और Google भी आपकी Post को Top Results में show नहीं करेगा।

So आपको Users Friendly Content Create करना है।

जिससे आपकी Website का Traffic Increase और Content दोनों अपने आप High-Quality होता चला जाएगा।

For Exp: अब Google Voice Search को ही देख लीजिए।

जब भी कोई Users Voice Search के माध्यम से Search करता है कि On Page SEO Kya hai?

तो हमारे सामने कुछ इस तरह के Result show होते है।

on page seo kya

जैसा कि इस चित्र में आप देख पा रहे है कि मैंने जब अपने Mobile-Phone पर Voice Search के माध्यंम से Keyword बोला कि On Page SEO क्या है? तो सबसे पहले Top पर Wtechni इस Site की Post rank करती है।

सोचिए कैसे?

क्योंकि जब भी Google Bot हमारी किसी Post को Crawl करता है तो हर Angle से Site और Post को Check करता है।

जैसे कि:-

  1. Social Sharing कितने है।
  2. Site की कितनी Backlinks है।
  3. Do-follow/No-follow backlink का Ratio क्या है।
  4. Site की Domain Authority/Page Authority कितनी है।
  5. जिस Post को आप Rank करने की कोशिश कर रहे है उस पर Do-follow/No-follow Backlinks कितनी है।

ऐसे ही और भी बहुत से SEO Ranking Factors है जिनको ध्यान में रखकर google आपकी Post को Ranking Provide करता है।

Conclusion: On Page SEO Checklist

ये On Page SEO Checklist के 31 points or steps आपके Content को Search Engines के लिए Definitely Optimize करेंगे और SERPs (Search Engines Results Pages) में आपकी Visibility को भी improve करेंगे।

लेकिन Guys…On Page SEO अकेला काफी नहीं है आपकी Post को Rank करने के लिए।

इसलिए आपको On Page SEO के साथ-साथ Off Page SEO Checklist को भी जानना काफी महत्वपूर्ण है।

और अगर आप अपनी Website पर Traffic न आने की वजह से चिंतित है तो आप Website Traffic Checklist को Read कर सकते है।

So friends…आज की इस Post को यही विराम देते है ताकि मैं भी थोड़ा सुस्ता सकूं।

खैर…It was just a joke

आपको क्या लगता है मैंने इस Post में किसी important step को miss कर दिया।

अगर हाँ…तो क्या कर रहे हो मेरे भाई जल्दी से नीचे Comment box में बताइए ताकि मैं उस point को इस Checklist में Add कर सकूं।

#Comment Below Fast

So Friends…On Page SEO की Checklist में बस इतना ही अगर आपको ये article पसंद आई है तो अपने Opinions मेरे साथ नीचे Comment box में जरूर Share करें।

और हाँ इस Article को अपने Social Media handles पर अपने friends के साथ जरूर share करें।

Share Now – Don’t be selfish 🙂

Sandeep
He is the founder and editor of DeepBlogging Blog Tips Like SEO, Link Building, Traffic Increase Tips in Hindi. Learn more about him here and connect with him on Twitter, Facebook Page.